बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

गंगा हरितिमा अभियान क्या है ?

गंगा नदी के निर्मल एवं अविरल प्रवाह तथा उसके पारिस्थकीय तंत्र के संरक्षण एवं उसके तट पर स्थित ग्रामों के समग्र विकास हेतु गंगा हरितिमा अभियान आयोजित किया जा रहा है ।

गंगा हरितिमा अभियान की अवधि क्या है ?

अभियान का आयोजन दिनांक 21 मार्च, 2018 (अन्तर्राष्ट्रीय वन दिवस) से 16 सितम्बर, 2018 (विश्व ओजोन दिवस) तक किया जायेगा।

एक व्यक्ति एक वृक्ष योजना क्या है ?

निजी भूमि विशेषकर शहरों एवं ग्रामों में अवस्थित आवासीय भूमि पर वैयक्तिक रूप से वृक्षारोपण को प्रोत्साहित करने हेतु एक व्यक्ति एक वृक्ष योजना प्रस्तावित है जिसके अंतर्गत प्रत्येक व्यक्ति द्वारा न्यूनतम एक वृक्ष रोपित किया जाना लक्षित है। रोपित किये जाने योग्य पौध निकटवर्ती वन एवं उद्यान विभाग तथा निजी पौधशाला से सशुल्क प्राप्त की जायेगी।

गंगा हरितिमा अभियान का क्षेत्र क्या है ?

गंगा नदी के जलग्रहण क्षेत्र तथा विशेषकर गंगा नदी के दोनों ओर 01 कि0मी0 चौड़ाई के अंतर्गत अवस्थित भूमि क्षेत्र को इस अभियान में लिया जायेगा तथा ऐसे सम्बन्धित ग्राम जो 01 कि0मी0 सीमा में अवस्थित हो, के पूरे भू-भाग को लिया जायेगा।

गंगा हरितिमा अभियान में गंगा संरक्षण की क्या आवश्यकता है ?

वर्तमान में गंगा नदी से संबंधित संसाधनों के अत्यधिक उपयोग, जल ग्रहण क्षेत्र में हरितिमा में कमी एवं प्रदूषण के उपचार न किये जाने के कारण गंगा नदी की अविरलता एवं निर्मलता में कमी आयी है जिसके दृष्टिगत गंगा नदी के संरक्षण हेतु प्रयास किया जाना अत्यंत आवश्यक है।

गंगा हरितिमा अभियान में स्थानीय समुदाय की भागीदारी क्या है ?

गंगा हरितिमा अभियान जन सहभागिता से ही संचालित किया जाना है। स्थानीय निवासियों हेतु चैपालों/बैठकों का आयोजन किया जायेगा जिसमें जन-सामान्य/ग्रामीणों को गंगा नदी के सामाजिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक, आर्थिक एवं धार्मिक महत्व के विषय में जानकारी दी जायेगी।

इस अभियान में भागीदारी किस प्रकार की जा सकती है?

इस अभियान में व्यक्तिगत एवं संस्थागत दोनों प्रकार की भागीदारी की जा सकती है। इसके लिये मोबाइल एप्प। अथवा अभियान के वेब पोर्टल पर पंजीकरण कर अपनी भागीदारी निश्चित की जा सकती है।

मोबाइल एप्प क्या है और कहां से डाउनलोड किया जा सकता है?

मोबाइल एप्प का नाम गंगा सेवा है तथा इसे गुगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। इसके लिये स्माार्ट फोन होना आवश्यगक है।

मोबाइल एप्प में और क्या सुविधांए उपलब्ध है?

मोबाइल एप्प में गंगा हरितिमा अभियान से जुडे प्रत्येक कार्यक्रम के सम्बन्ध‍ में जानकारी उपलब्ध होगी तथा इसके माध्यम से अन्य कार्यक्रमों के सम्बन्ध में भी सुविधा उपलब्ध है।

इस अभियान में कौन-कौन से विभाग सम्मिलित है?

वन विभाग, पंचायतीराज, सूचना एवं जनसंपर्क, संस्कृति, बेसिक-माध्यमिक एवं उच्च, युवा कल्याण एवं प्रांतीय रक्षक दल, महिला कल्याण, ग्राम्य विकास, समाज कल्याण, कृषि उद्यान, सिंचाई व आयुष विभाग।

गंगा के किनारे कौन-कौन से 27 जनपद है?

बुलन्दशहर, हापुड़, मेरठ, मुजफफरनगर, अलीगढ़, कासगंज, बिजनौर, संभल, अमरोहा, बदायॅू, शाहजहांपुर, हरदोई, रायबरेली, उन्नाव, फर्रूखाबाद, कन्नौज, कानपुर, फतेहपुर, प्रतापगढ़, इलाहाबाद, कौशाम्बी, चन्दौली, भदोही, मिर्जापुर, गाजीपुर, वाराणसी, बलिया।

मुझे अपने ग्राम में अभियान से सम्बन्धित अधिक जानकारी कैसे प्राप्त होगी ?

ग्राम सेवा समिति जिसका अध्यक्ष ग्राम प्रधान एवं सदस्य् सचिव ग्राम पंचायत अधिकारी से अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हमें पौध कहॉ से प्राप्त होगी?

वन विभाग, उद्यान विभाग, निजी पौधशाला से सशुल्क प्राप्त कर सकते है।

लगाये गये पौधे की सुरक्षा की जिम्मेदारी किसकी होगी?

लगाये गये पौधे की पूर्ण सुरक्षा की जिम्मेदारी लगाने वाले गंगा सेवक की होगी।

गंगा सेवक कौन है?

इस अभियान में पौधा लगाने वाला प्रत्येक नागरिक गंगा सेवक होगा।

गंगा सेवक बनने से क्या लाभ होगा ?

गंगा सेवक बनने से व्याक्ति को राज्य सरकार के द्वारा टोपी एवं बैज दे‍कर सम्मा।नित किया जायेगा।

अधिक जानकारी के लिए कहॉ सम्पर्क करें ?

अपने जिले के प्रभागीय वनाधिकारी से सम्पर्क करें।